देश

देश की ‘गुप्त’ जानकारियां ‘विदेशों’ को देने के आरोप में राष्ट्रवादी, देशभक्त भारतीय फ़ौजी ‘रविंद्र’ गिरफ़्तार

ज़िक्र होता है जब क़यामत का तेरे जलवों की बात होती है
तू जो चाहे तो दिन निकलता है तू जो चाहे तो रात होती है

ये बंद है तो मुकेश जी के गाये एक सुन्दर गीत का मगर पूरी तरह से फिट बैठता है ‘व्यवस्था’ ‘सरकार’ ‘संघ’ और आतंकवाद की मार झेल रहे मुसलमानों पर, एक तरफ दिल्ली के बटला हाउस एनकाउंटर पर फ़िल्म बना कर उसे ‘सच’ साबित करने का अच्छा तरीक़ा तलाश लिया है, फिल्म 15 अगस्त को परदे पर आयेगी और एक फ़र्ज़ी एनकाउंटर को असली साबित करने के लिए अनेक परदे डालेगी, परदे के पीछे छिपे ‘नाग-पुरी’ शिकारी आतंकवाद को हर हाल में मुसलमानों से जोड़े रखना चाहते हैं इसके लिए इंद्रेश -विन्द्रेश, माधुरी -वाधुरी, धुरुव सक्सेना जैसे जितना चाहें आतंक मचाएं या आतंकवादियों को मदद पहुंचाहें किसी को कोई परवाह नहीं है

कई बार ऐसे समाचार पढ़ने को मिलते हैं कि ”लुटेरे आँखों में मिर्च का पोडर डाल कर व्यापारी से 15 लाख (मोदी वाले नहीं’ काला धन वाले भी नहीं, टैक्स चोरी का नहीं) लूट ले गए, अब इसमें ‘व्यंग’ तलाशें,,,लुटेरे ने मिर्च का पाउडर डाला मगर व्यापारी ने ‘वहां’ से लिए थे, ‘यहाँ’ ‘ब्लास्ट’ करवाने के लिए,,,यकीन नहीं होता है न, हो भी क्यों,,,,,चश्मा उतारो फिर देखो यारो,,,दुनियां नई है ‘चेहरा’ पुराना,,,,,

नारनौल (हरियाणा)

===========

नारनौल सिटी थाना पुलिस ने सोशल मीडिया के जरिए विदेशी महिला जासूस को सेना की खुफिया जानकारी देने के आरोप में एक फौजी को गिरफ्तार किया है। आरोपी फौजी से सात कारतूस, दो मोबाइल व तीन सिम भी बरामद हुए हैं।

आरोपी पर आईपीसी की धारा, ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट व शस्त्र अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस ने आरोपी को गुरुवार को कोर्ट में पेश कर दो दिन की रिमांड पर लिया है। पुलिस को शक है कि आरोपी के तार पाकिस्तान से जुड़े हो सकते हैं।

पुलिस प्रवक्ता नरेश कुमार ने बताया कि बसई गांव निवासी रविंद्र साल 2017 में पांचवीं कुमाऊं रेजिमेंट में सिपाही पद पर भर्ती हुआ था। आरोपी की साल 2018 में अमृतसर (पंजाब) में पोस्टिंग थी। इसी दौरान फेसबुक के जरिए उसकी एक विदेशी महिला से दोस्ती हुई।

पहले दोनों चैटिंग करते रहे फिर महिला ने रविंद्र के बारे में जानकारी ली। रविंद्र ने महिला को बताया कि वह सेना में अमृतसर में कार्यरत है। इसके बाद दोनों की वीडियो कॉलिंग के जरिए बात होने लग गई।

संवेदनशील जगहों की जानकारी साझा करता रहा आरोपी
प्रवक्ता ने बताया कि मार्च 2018 में महिला ने यूनिट की लोकेशन और सेना में प्रयोग होने वाली राइफल के बारे में जानकारी मांगी। आरोपी ने गूगल पर सर्च करके राइफल की फोटो महिला के पास भेजी। आरोपी यूनिट के साथ अमृतसर से अरुणाचल प्रदेश के लिए रवाना हो गया। इसकी जानकारी भी जासूस को दे दी।

दिसंबर 2018 में महिला ने आरोपी के अकाउंट में पांच हजार रुपये भी भेजे और कहा कि सामान ले लेना। आरोपी लगातार देश की आंतरिक व बाहरी सुरक्षा से जुड़ी संवेदनशील जगहों की जानकारी महिला को देता रहा। सूत्रों के अनुसार इसकी जानकारी खुफिया एजेंसियों को लग गई। तब एजेंसियों ने पुलिस से साझा किया।

पांच दिन की छुट्टी पर आया था घर, चाय की दुकान से काबू
सिपाही रविंद्र आठ जुलाई को पांच दिन की छुट्टी लेकर घर आया और नारनौल रेलवे स्टेशन पर उतरा था। पुलिस को इसके बारे में पहले से जानकारी मिली थी। एसपी चंद्र मोहन ने आरोपी फौजी को गिरफ्तार करने के आदेश दिए थे। पुलिस ने आरोपी को चाय की दुकान से काबू किया।

जांच में साइबर सेल की ली जा रही मदद
रिमांड के दौरान पुलिस पता करेगी कि गिरोह में कौन-कौन शामिल है, किस-किस को जानकारियां दी गई हैं। मामले की जांच में साइबर सेल की मदद ली जा रही है। आरोपी अलग-अलग नंबरों पर व्हाट्सएप चलाता था। प्रारंभिक जांच में यह नहीं पता चल सका है कि महिला जासूस किस देश की है।

विदेशी महिला को सेना की खुफिया जानकारी देने के आरोप में फौजी रविंद्र को गिरफ्तार किया गया है। संकेत मिले हैं कि आरोपी के तार पाकिस्तान से भी जुड़े हो सकते हैं। इसके बारे उसकी कॉल डिटेल समेत अन्य जानकारी हासिल की जा रही है। – चंद्रमोहन, एसपी, नारनौल।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *