बेलगाम अफसरशाही : उत्तर प्रदेश में ‘जानलेवा’ अफसर ने मां के इलाज का पैसा छीना, युवक नीरज ने कलेक्ट्रेट कैंपस में दी जान!

UP: अधिकारी ने मां के इलाज का पैसा छीना, युवक ने दी जान

उत्तर प्रदेश में सत्ता तो जरूर बदली, लेकिन सरकार का मिजाज लगभग वही है. अब तक राज्य के नौकरशाहों को बेलगाम कहा जाता था, मगर अब इसमें एक और शब्द जोड़ा जा रहा है- ‘जानलेवा’. दरअसल यह बात इसलिए कही जा रही है क्योंकि बिजली विभाग के अधिकारियों के टॉर्चर से तंग आकर मुजफ्फरनगर का एक शख्स जान देने पर मजबूर हो गया. इस शख्स ने बिजनौर जिले के कलेक्ट्रेट कैंपस में 9 जुलाई को ज़हर खाकर जान दे दी. फिलहाल इस मामले में बिजनौर जिला प्रशासन ने मुजफ्फरनगर प्रशासन को रिपोर्ट सौंप दी है.

क्या है पूरा मामला?
मृतक नीरज कुमार मुजफ्फरनगर के मीरापुर का रहने वाला था. नीरज के रिश्तेदार राजकुमार के मुताबिक, पिछले 1 साल से बिजली विभाग का एक जूनियर इंजीनियर नीरज को परेशान कर रहा था. बिजली काटने के नाम पर वह कई बार नीरज से मोटी रकम वसूल कर चुका था. पिछले दिनों भी उसने नीरज से 20 हजार रुपये जबरदस्ती ले लिए. राजकुमार के मुताबिक, इन पैसों को नीरज ने अपनी मां के इलाज के लिए रखा था.

राजकुमार ने बताया- बिजली विभाग वाले नीरज को उसके घर से नंगे पैर ही उठाकर ले गए थे. इसके बाद नीरज के साथ मारपीट भी की गई थी.

जूनियर इंजीनियर की प्रताड़ना से तंग आकर नीरज ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की थी, जिसमें उसने राष्ट्रपति से इच्छामृत्यु की मांग की थी.

मरने से पहले किया बहन को फोन
9 जुलाई को नीरज आंख का इलाज कराने के बहाने बिजनौर पहुंचा. उसने अपनी बहन को फोन किया और कहा कि अब मैं जीना नहीं चाहता. इसके बाद उसने फोन काट दिया.

चश्मदीदों के मुताबिक, नीरज शाम तकरीबन 4 बजे डीएम दफ्तर के बाहर पहुंचा और उसने अचानक जहर खा लिया. जब तक लोग कुछ समझ पाते, उसकी जान चली गई.

नीरज के पास मिले सामानों के आधार पर उसकी शिनाख्त की गई. उसके पास मील बैग से कई प्रार्थना पत्र मिले हैं, जिसमें उसने बिजली विभाग के अधिकारियों की प्रताड़ना का जिक्र किया है.

बेलगाम अफसरों पर लगाम कब?
उत्तर प्रदेश में बेलगाम अफसरों की प्रताड़ना की यह खबर नई जरूर है लेकिन हैरान नहीं करती. यहां रहने वाला हर शख्स किसी न किसी रूप में अफसरों की प्रताड़ना झेलता रहता है. राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार अफसरों पर सख्ती दिखाने की बात तो करते हैं, लेकिन जमीन पर इस सख्ती का असर नहीं दिख रहा. यह असर दिखता तो नीरज जैसे युवक को जान नहीं देनी पड़ती.

सोर्स : क्विंट हिंदी

 

Pankhuri Pathak پنکھڑی

Verified account

@pankhuripathak
निर्णय और नेतृत्व ज़रूरी है ।
लेकिन जब तक नहीं मिलता क्या हम सब अपना अपना काम नहीं कर सकते ?
जनता की समस्या नहीं सुन सकते ?
उनकी आवाज़ नहीं बन सकते ?

क्या इतने असहाय हैं हम कि बिना किसी के निर्देश के अपने घरों , अपने कमरों से बाहर नहीं निकल सकते ?

किसका इंतज़ार है ? कितना और ?


Zeba Yasmeen

@zeba_yasmeen
मानसून आते ही पानी-पानी हुई पीएम मोदी की काशी, क्योटो बनाने का सपना हवा-हवाई

Sourabh Goel

@skgupta96
उत्तरप्रदेश : बहराइच डिपो की बस (यूपी 40- टी -5510) में बुधवार की सुबह बस से सफर कर रहे एक शख्स की मौत हो गई तो यह देख बस के चालक और परिचालक ने रास्ते में ही पत्नी को शव सहित जबरन सिर्फ उतारा ही नहीं बल्कि उसका टिकट भी छीन लिया और मौके से फरार हो गए।

Sourabh Goel

@skgupta96
उत्तरप्रदेश : बहराइच डिपो की बस (यूपी 40- टी -5510) में बुधवार की सुबह बस से सफर कर रहे एक शख्स की मौत हो गई तो यह देख बस के चालक और परिचालक ने रास्ते में ही पत्नी को शव सहित जबरन सिर्फ उतारा ही नहीं बल्कि उसका टिकट भी छीन लिया और मौके से फरार हो गए।


Prashant Bhushan

Verified account

@pbhushan1
CBI raids at residence of Indira Jaisingh & Anand Grover in case of alleges misuse of foreign funding to their NGO is a clear act of Vendetta. Registration of cases & raids by Govt agencies has now become the way of govt to harass & intimidate opponents

बेबाक पत्रकार

@RoflMast
आर्थिक मंदी के कारण ऑटो सेक्टर में भारी गिरावट का सीधा असर रोजगार पर पड़ रहा है। जब बेरोजगारी 45 साल के उच्चतम स्तर पर है, तो ऐसे समय में यह खबर निश्चित ही देश के युवाओं के लिए भारी निराशा पैदा करने वाली है।

vsbrar

@vsbrar_
#Modiji देश नही है ,#RSS संसद नही हैं और ,मनुस्मृति #सँविधान नही है
देश मे मौबलिंचिंग और आगजनी फुल जोर पर है! पुलिस प्रशासन के सामने कैसे एक व्यक्ति को जला दिया गया है-यह जबावदेही किसकी है???
ये घटना #गुजरात की है और जला हुआ व्यक्ति #अनुसूचित जनजाति का है

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed