इतिहास

11 सितम्बर का इतिहास : 11 सितम्बर 1948 को क़ायदे अज़ाम मोहम्मद अली जेनाह का निधन हुआ, यहूदियों ने WTC व पेंटागन पर आतंकवादी हमला किया!

ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार 11 सितंबर वर्ष का 254 वाँ (लीप वर्ष में यह 255 वाँ) दिन है। साल में अभी और 111 दिन शेष हैं।

11 सितंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ
=============
1893 – शिकागो में विश्व धर्म सम्मेलन में स्वामी विवेकानंद ने कट्टरता, सहिष्णुता और सभी धर्मों में निहित सच्चाई पर ऐतिहासिक भाषण दिया।
1906 – महात्मा गाँधी ने दक्षिण अफ़्रीका में सत्याग्रह आन्दोलन आरंभ किया।
1919 – अमेरिकी नौसेना ने होंडुरास पर आक्रमण किया।
1939 – इराक और सऊदी अरब ने जर्मनी के खिलाफ युद्ध की घोषणा की।
1941 – अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन का निर्माण शुरू हुआ।
1951 – इंग्लिश चैनल तैरकर पार करने वाली पहली महिला बनी फ्लोरेंस चैडविक। उन्हें इंग्लैंड से फ्रांस पहुंचने में 16 घंटे और 19 मिनट लगे।
1961 – विश्व वन्यजीव कोष की स्थापना।
1965 – भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान भारतीय सेना ने दक्षिण पूर्वी लाहौर के निकट बुर्की शहर पर कब्ज़ा किया।
1968 – एयर फ्रांस का विमान संख्या 1611 नाइस के निकट दुर्घटनाग्रस्त। हादसे में 89 यात्रियों और चालक दल के छह सदस्यों की मौत।
1971 – मिस्र में संविधान को अंगीकार किया गया।
1973 – चिली के राष्ट्रपति साल्वाडोर अलांदे का सैन्य तख्तापलट।
1996 – राष्ट्रमंडल संसदीय संघ में पहली बार एक महिला अध्यक्ष निर्वाचित।
2001 – अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर व पेंटागन पर आतंकवादी हमले में 6 हज़ार से अधिक लोग मरे।
2003 – चीन के विरोध के बावजूद तिब्बत के धार्मिक नेता दलाई लामा से अमेरिकी राष्ट्रपति जार्ज बुश मिले।
2005 – गाजा पट्टी में 38 सालों से जारी सैन्य शासन समाप्त करने की घोषणा।
2006 – पेस और डेम की जोड़ी ने अमेरिकी ओपन का युगल ख़िताब जीता। भारत के पूर्व प्रधान न्यायाधीश पी.एन. भगवती संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार समिति में चौथी बार पुनर्निर्वाचित। प्रख्यात बांग्लादेशी लेखिका तस्लीमा नसरीन ने भारतीय नागरिकता की मांग की। स्विट्जरलैंड के रोजर फ़ेडरर को लगातार तीसरी बार अमेरिकी ओपन टेनिस टूर्नामेंट का ख़िताब। अमेरिकी अंतरिक्ष यान अटलांटिस अंतरिक्ष के साथ जुड़ा।
2007 – येरूशलम से सटे डेविड शहर में लगभग 2000 साल पुरानी सुरंग का पता लगा।
2009 – नोएडा के निठारी काण्ड के आरोपी मोनिन्दर सिंह पंढेर को इलाहाबाद के उच्च न्यायालय ने 19 मामलों में एक रिपा हलदर मामले में बरी किया। सर्वोच्च न्यायालय ने कांशीराम स्मारक स्थल के निर्माण पर रोक लगाई।
2011-रक्षा वैज्ञानिकों ने बनायी ‘ल्यूकोडर्मा’ की अचूक हर्बल औषधि। इस हर्बल द्रव और लगाने के लिए मलहम रूप में होगी। इस दवा के व्यावसायिक उत्पादन और मार्केटिंग के लिए डीआरडीओ ने देश की एक फार्मास्यूटिकल्स कंपनी से करार किया है, जो तकनीकि हस्तांतरण से इसका उत्पादन शुरू करने जा रही है।
9/11 की घटना के बाद एशियाई लोगों को संदेह की नजर से देखा जा रहा था, लेकिन भारतीय मूल के लोगों के बारे में अमेरिकियों की सोच बिल्कुल बदल गई है। इसका कारण भारतीयों की प्रतिभा और परिश्रम है।

2012 – सोमालिया की सेना के साथ संघर्ष में अल शबाब के 50 आतंकवादी मारे गए।

11 सितंबर को जन्मे व्यक्ति
1895 – विनोबा भावे- भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, सामाजिक कार्यकर्ता और प्रसिद्ध गांधीवादी नेता।
1901 – आत्माराम रावजी देशपांडे – प्रसिद्ध मराठी साहित्यकार।
1911 – लाला अमरनाथ- अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भारत की ओर से पहला शतक जमाने वाले क्रिकेटर।
1919 – कन्हैयालाल सेठिया – आधुनिक काल के प्रसिद्ध हिन्दी व राजस्थानी लेखक।
1982 – श्रेया सारन- दक्षिण भारतीय अभिनेत्री

11 सितंबर को हुए निधन
1921 – सुब्रह्मण्य भारती
1948 – मुहम्मद अली जिन्ना – ब्रिटिशकालीन भारत के प्रमुख नेता और ‘मुस्लिम लीग’ के अध्यक्ष।
1964 – मुक्तिबोध गजानन माधव- प्रगतिशील भारतीय कवि।
1973 – नीम करोली बाबा- भारतीय गुरु।
1987 – महादेवी वर्मा- हिन्दी कवयित्री और हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक।
1968 – बाबा हरभजन सिंह – भारतीय सेना का एक सैनिक।

11 सितम्बर सन 1976 ईसवी को अपहरित भारतीय बोइंग जहाज़ लाहौर एयरपोर्ट पर उतरा और यात्रियों को रिहा किया गया।

• 11 सितम्बर सन 1939 को इराक़ और सऊदी अरब ने नाज़ी जर्मनी के विरुद्ध जंग का एलान किया।

11 सितम्बर वर्ष 1895 को भारत के प्रसिद्ध समाज सेवी आचार्य विनोबा भावे का जन्म महाराष्ट्र के कोंकड़ क्षेत्र के गागोदा नाम गांव में हुआ। उनका पूरा नाम विनायक नरहरि भावे था। उन्हें भारत का राष्ट्रीय अध्यापक और महात्मा गांधी का आध्यात्मिक अतराधिकारी समझा जाता था। उन्होंने अपने जीवन के अंतिम वर्ष महाराष्ट्र के पुनार क्षेत्र के आश्रम में व्यतीत किए। इंदिरा गांधी द्वारा घोषित आपातकाल को अनुशासन पर्व कहने के कारण वे वि्वाद मे भी रहे। विनोबा भावे की अध्यात्म-चेतना असाधारण थी। दर्शनशास्त्र उनका प्रिय विषय था. आश्रम में प्रवेश होने के कुछ महीने के भीतर ही दर्शनशास्त्र की आगे की पढ़ाई के लिए उन्होंने एक वर्ष का अध्ययन अवकाश लिया था। 15 नवम्बर वर्ष 1982 को उनका निधन हो गया।

11 सितम्बर वर्ष 1987 को भारत की प्रसिद्ध व प्रतिभावान कवित्री महादेवी वर्मा का निधन हुआ। उनका जन्म 26 मार्च वर्ष 1907 को हुआ था। वे हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभो में से एक मानी जाती हैं। आधुनिक हिन्दी की सबसे सशक्त कवित्रियों में से एक होने के कारण उन्हें आधुनिक मीरा के नाम से भी जाना जाता है। महादेवी ने स्वतंत्रता के पहले का भारत भी देखा और उसके बाद का भी। उन्होंने खड़ी बोली हिन्दी की कविता में उस कोमल शब्दावली का विकास किया जो अभी तक केवल बृजभाषा में ही संभव मानी जाती थी। इसके लिए उन्होंने अपने समय के अनुकूल संस्कृत और बांग्ला के कोमल शब्दों को चुनकर हिन्दी का रूप दिया। उन्होंने अध्यापन से अपने कार्यजीवन का आरंभ किया और अंतिम समय तक वे प्रयाग महिला विद्यापीठ की प्रधानाचार्या बनी रहीं। उनका बाल-विवाह हुआ परंतु उन्होंने अविवाहित की भांति जीवन-यापन किया। प्रतिभावान कवयित्री और गद्य लेखिका महादेवी वर्मा साहित्य और संगीत में निपुण होने के साथ साथ कुशल चित्रकार और सृजनात्मक अनुवादक भी थीं। उन्हें हिन्दी साहित्य के सभी महत्त्वपूर्ण पुरस्कार जीतने का गौरव प्राप्त है।

11 सितम्बर सन 1948 ईसवी को पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जेनाह का निधन हुआ। उनका जन्म सन 1876 ईसवी में कराची नगर में हुआ था। उन्होंने वर्ष 1906 ईसवी में मुस्लिम लीग की स्थापना की। यह दल आरंभ में सांस्कृतिक और धार्मिक गतिविधियों में व्यस्त रहा। किंतु बाद में राजनीति में उतर गया। मुहम्मद अली जेनाह द्वारा उठाए गये क़दमों के कारण बहुत से मुसलमान मुस्लिम लीग के सदस्य बन गये। और यह दल बहुत शक्तिशाली हो गया। इस प्रकार से द्वितीय विश्व युद्ध के बाद होने वाले चुनावों में भारतीय उप महाद्वीप के समस्त मुसलिम बाहुल्य क्षेत्रों में मुस्लिम लीग को सफलता मिली। और इस दल ने भारत के विभाजन और पाकिस्तान नाम से अलग देश की स्थापना मे सफलता प्राप्त की।


11 सितम्बर सन 1973 ईसवी को चिली के तत्कालीन नौसेना कमांडर जनरल आगोस्टो पीनूशे ने अमरीका के समर्थन में सिल्वाडोर आलन्दे का तख्ता उलट दिया। आलन्दे वर्ष 1970 ईसवी में चिली के राष्ट्रपति बने। और इस देश के बैंकों खदानों और उद्योगों का राष्ट्रीयकरण आरंभ कर दिया। इस प्रकार चिली में अमरीका की बड़ी बड़ी कम्पनियों के हित समाप्त होने लगे। इसी कारण चिली में अमरीका की धांधलिया और गड़बड़ियॉ आरंभ हो गयीं। चिली के सेनाधिकारियों को अमरीका ने अपने जाल में फॅसाया। और आज के दिन पीनूशे ने अमरीकी गुप्तचर सेवा सी आई ए के समर्थन से चिली की निवाचित सरकार का अंत कर दिया। जिसके बाद सत्ता पीनूशे के हाथ में आ गयी। पीनूशे आंतरिक और बाहरी दबावों के कारण वर्ष 1990 में राष्ट्रपति चुनाव आयोजित कराने पर विवश हुए जिसके परिणाम स्वरुप असैनिक सरकार सत्ता में आयी। लेकिन सेना का नैतृत्व पीनूशे के पास ही रहा अत: उनके पास पूरी शक्ति मौजूद थी वर्ष 1998 में वे अपने पद से हटे। उनके शासन काल में मारे जाने वालों के परिजनों की ओर से उन पर मुक़द्दमा चलाए जाने की मांग की जाती रही है।


11 सितम्बर सन 2001 ईसवी को अमरीका में चार अपचालित विमानों में से दो न्यूयार्क में विश्व व्यापार केंद्र की गगनचुंबी जुड़वों इमारतों से और एक विमान रक्षा मंत्रालय पेंटागोन की इमारत से टकाराया। जबकि चौथे विमान को आसमान में तबाह कर दिया गया। इस बड़े आतंकवादी आक्रमण में वर्ल्ड ट्रेड सेंन्टर की जुड़वा इमारतें पूरी तरह ढह गयीं। जबकि पेंटागोन के कुछ भाग को क्षति पहृँची। कुल मिलाकर 3 हज़ार 200 लोग मारे गये। अमरीका ने इस आक्रमण के लिए आतंकवादी गुट अलक़ायदा को ख़त्म करने के बहाने एक महीने के अंदर अफ़ग़ानिस्तान पर आक्रमण किया। जिसमें सैकड़ों निर्दोष लोग मारे गये। जबकि बिन लादेन और अलक़ायदा के बहुत से सदस्य भागने मे सफल हो गये। बाद में अमरीका ने एबटाबाद आप्रेशन करके ओसामा बिन लादेन मार डाला। अमरीका ने इराक़ पर भी हमला किया।

***

11 मोहर्रम सन 279 हिजरी क़मरी को मुसलमान इतिहासकार और हाफ़िज़ अबू ईसा तिरमिज़ी का निधन हुआ। उन्होंने शिक्षा की प्राप्ति के लिए विभिन्न इस्लामी देशों की यात्रा की और तत्कालीन वरिष्ठ धर्मगुरुओं और इतिहासकारों से शिक्षा ली। जामए तिरमिज़ी उनकी सबसे विख्यात पुस्तक है। यह सुन्नी समुदाय के मुसलमानों के बीच बहुत महत्वपूर्ण और विश्वसनीय पुस्तक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *