देश

संध का ख़ूनी क़िरदार : राजीव गॉघी की हत्या के मामले में झंड़ेवालान वालों के खूनी क़िरदार को नक़ारा नहीं जा सकता!

भारत में 2014 के लोकसभा चुनावों से पहले बडे खेल हुऐ थे, देश में उस समय कॉग्रेस पार्टी के गठबन्घ की सरकार थी, और मनमोन सिंह प्रघानमंत्री थे, कांग्रेस की इस सरकार के खिलाफ़ संध परिवार ने कई मोर्च खोल दिये थे, खुद संध परिवार परदे के पीछे छिप कर रहा, संध परिवार उस समय […]

दुनिया

अगर राष्ट्रपति बन गई तो ईरान पर लगे प्रतिबंधों को हटा दूंगी : तुलसी गबार्ड

अमरीका में राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक प्रत्याशी बनने के दावेदारों में से एक तुलसी गबार्ड ने कहा है कि यदि वे अमरीका की राष्ट्रपति बन जाती हैं तो वे ईरान पर लगे प्रतिबंधों को हटवाएंगी। उन्होंने इसी प्रकार अमरीका के जेसीपीओए में वापस आने की भी बात कही है। तुलसी गबार्ड का कहना है […]

मध्य प्रदेश राज्य

मध्य प्रदेश : हनी ट्रैप गैंग ने कमलनाथ सरकार के 28 विधायकों को टारगेट किया था!

Journalist Jafri =================== मध्य प्रदेश के हाई प्रोफाइल हनी ट्रैप मामले में लगातार चौंकाने वाले खुलासे हो रहे हैं. हनी ट्रैप गैंग ने कमलनाथ सरकार के 28 विधायकों को टारगेट किया था. इन विधायकों में कई मंत्री भी शामिल थे. गैंग की महिला सदस्यों ने कई मंत्रियों और विधायकों से नजदीकियां भी बढ़ाई थी. एक […]

इतिहास

16 सितम्बर का इतिहास : लीबिया के नेता उमर मुख्तार को फांसी दी गयी, अलजीरिया के नेता अमीर अब्दुल क़ादिर अल जज़ायरी गिरफ़तार हुए!

ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार 16 सितंबर वर्ष का 259 वाँ (लीप वर्ष में यह 260 वाँ) दिन है। साल में अभी और 106 दिन शेष हैं। 16 सितंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ ================ 1810 – निगवेल हिदाल्गो ने स्पेन से मैक्सिको की आज़ादी के लिए संघर्ष शुरु किया। 1821 – मैक्सिको की स्वतंत्रता को मान्यता मिली। […]

विशेष

अफ़्ग़ानिस्तान : रोज़ी के परिवार के छः सदस्य इस हमले में मारे गए हैं!

Wasim Akram Tyagi ========== तस्वीर में दिख रही बुज़ुर्ग महिला का नाम रोज़ी है। रोज़ी के सामने जो जूतियां रखीं हैं वे इनके पोती, पोते, बेटे और बहु की हैं, जिन्हें एक रोज़ पहले अफग़ानिस्तान सेना के एक हमले में अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। रोज़ी अब इन्हीं जूतियों को हाथ में लेकर रहती […]

साहित्य

हत्या…बलात्कार…दंगे…कुछ भी…जी भर कर खेलो ख़ूनी खेल

Arun Maheshwari ============= “हम अगर कहीं जाएंगे तो हमारे कंधे पर उन दबी हुई आवाजों की शक्ति होगी जिनको बचाने की बात हम सड़कों पर करते हैं। अगर व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा होगी तो भगत सिंह जैसे शहीद होने की महत्वाकांक्षा होगी, न कि जेएनयू से इलेक्शन में गांठ जोड़कर चुनाव जीतने और हारने की महत्वाकांक्षा होगी […]